My photo
Mumbai, Maharastra, India
I have lost myself so until I find him within me there is nothing about me that can be written.

My short Films

Loading...

Friday, March 11

तेरे इश्क में फिरता रहा मैं पग-पग,
छंद बनते रहे, चाल रही मगर डग-मग |

इस चाल को मैं किसी के कन्धों का सहारा देता नहीं,
रात की चढ़ी उतारने के लिए मैं सुबह beer पीता नहीं |

और वह नशा कैसा जो उस नशे से ज्यादा नहीं,
लोग बहुत हैं आस-पास पर कोई उन जैसा नहीं |

इश्क करने वालें जो समझा गए वह झूठ था,
इश्क करके पूछो हमसे, हमें है मिला क्या |

चाहत और मुहब्बत को भी कहतें हैं आज वो इश्क,
डूबते उस खेवट से पूछो हैं इश्क क्या |
( खेवट : नाविक, नाव चलाने वाला)


 


No comments:

Post a Comment